Android root क्या है | क्या 2020 में phone को root करना चाहिए

Android root क्या है 


Android root क्या है

आपने कभी न कभी तो android root के बारे में जरूर सुना होगा और अगर आपको नहीं पता कि android root kya hota hai तो इस आर्टिकल को पूरा पढियेगा इसमें आपको पता चल जायेगा के एंड्राइड रुट होता क्या है। जब कोई भी स्मार्टफोन में Android operating system को डाला जाता है तो उसकी कुछ limitation होती है और जब हम उस limitations को तोड़ देते हैं तो उसे ही android root कहा जाता है। root का मतलब होता है जड़ यानि की अगर आप किसी android smartphone को रुट कर देते हैं तो अब आपको उस smartphone का root access मिल गया है मतलब अब आप उस फोन में जो चाहे कर सकते हैं जैसे की अगर आप कुछ system apps जो की पहले uninstall नहीं हो रही थी अब आप उसे uninstall कर सकते हैं या फिर आप custom rom को install करके अपने फोन का android version बढ़ा सकते है। फोन रुट करने पर आप उस फोन के android security को तोड़ देते हैं जिससे आपको रूट एक्सेस मिल जाता है इसीलिए जब फोन में android os डाला जाता है तो उसमे कुछ लिमिटेशन लगाई जाती है जिससे वह सिक्योर भी होता है और एक normal user फोन के operating system से छेड़ छाड़ न कर सके इसीलिए phone में किसी भी प्रकार के changes करने के लिए आपको root करना पड़ता है। 

Android root कैसे करे 

Android root करना उतना भी मुश्किल काम नहीं है आप computer and mobile दोनों से phone root कर सकते है। रुट करने के लिए आपको एक kingroot नाम की application download करनी होगी यह application कंप्यूटर और मोबाइल दोनों के लिए available है। अगर आप computer से phone root कर रहे हैं तो आपके फोन का usb debugging on होना चाहिए इसे आप developer option में जाकर on कर सकते हैं और डेवलपर ऑप्शन को एक्सेस करने के लिए आपको अपने phone की settings में जाना है उसके बाद आपको about phone में जाना है फिर आपको build number पर 7 बार टैप करना है जिसके बाद डेवलपर ऑप्शन खुल जाएगा। अलग अलग ब्रांड के phone में build number के जगह और कुछ भी लिखा हो सकता है जैसे की mi के फोन में आपको miui version लिखा होगा जिसपर आपको टैप करना है। Usb debugging on करने के बाद अपने कंप्यूटर में kingroot को open कर लीजिये और अपने फोन को कंप्यूटर से connect कर दीजिए data cable की मदद से ध्यान रहे की आपकी data cable अच्छी quality की होनी चाहिये। अब आप root पर क्लिक कर दीजिये जिसके बाद आपका फोन रुट होने लगेगा। जब फोन रुट हो रहा हो तो usb cable को बिलकुल भी न निकाले वरना आपका phone खराब हो सकता है। 

कई बार kingroot से phone root नहीं होता इसीलिए phone root करने के और भी method हैं जैसे की TWRP की मदद से फोन root करना। 

Phone root है की नहीं check कैसे करें

Root करने के बाद आपका android root हुआ या नहीं इसका पता लगाना काफी सिंपल है आपको बस play store में जाना है और root checker नाम की application को install कर लेना है फिर आप इस application को open करेंगे और इसकी मदद से आप check कर सकते हैं की phone root हुआ या नहीं। अगर green signal आये मतलब phone root हो चूका है और अगर red signal आये मतलब फोन रुट नहीं हुआ है। 

Android root करने के फायदे

Android root करने के कई सारे फायदे हैं जिनमे से कुछ important फायदे मैंने नीचे बताया हुआ है। 

  • Android phone को root करने के बाद आप उस phone की performance को बढ़ा सकते है। बहुत से apps हैं जो कि phone के processor को overclock कर देती हैं जिससे आपके phone की performance बढ़ जाती है लेकिन performance बढ़ने पर फोन की बैटरी लाइफ कम हो जाती है। 
  • Root करने के बाद कुछ apps की मदद से आप फोन की ram को भी बढ़ा सकते हैं हालाकि ram एक hardware पार्ट है जिसे सॉफ्टवेयर से बढ़ाना impossible है इसीलिये ये applications आपके phone की memory को ram के जैसे इस्तेमाल करती हैं इसीलिए आपके फोन की ram तो बढ़ जाती है लेकिन उस ram की speed एक original ram जितनी नहीं होती। 
  • Root करने के बाद आप अपने phone के उन apps को uninstall कर सकते हैं जिन्हे पहले आप नहीं कर पा रहे थे। 
  • Phone को root करने के बाद आप custom rom को install कर सकते हैं जिससे आप अपने phone में latest android version चला सकते हैं। 
  • कुछ apps especially root phone के लिए ही बनाई जाती हैं जिन्हे आप सिर्फ उसी phone में इस्तेमाल कर सकते है जो phone rooted है। 

Android root karne ke nuksaan

अगर किसी चीज के फायदे हैं तो उसके नुकसान भी हैं वैसे ही android को रुट करने के नुकसान भी हैं।  

  • Root करते टाइम आपका phone खराब भी हो सकता है। रुट करते वक्त phone की stock rom खराब हो सकती है जिसके बाद आपका phone चालू नहीं होगा। आप जब भी phone चालू करेंगे तो screen में सिर्फ android का logo आएगा। हालाकि दुबारा stock rom डालकर फोन को वापस से ठीक किया जा सकता है और इसे flashing भी कहते हैं। 
  • Root करने से आपके phone की warranty खत्म हो सकती है। कुछ ब्रांड phone को रुट करने की permission देते हैं लेकिन बहुत से ब्रांड phone को रुट करने की परमिशन नहीं देते। हालाकि फोन को वापस से unroot करने पर आपकी warranty वापस आ जाएगी। 
  • Root करने के बाद आपको android में कोई भी security update नहीं मिलता जिससे फोन में वायरस आने का खतरा बना रहता है इसके अलावा rooted phone का hack होने का भी खतरा बना रहता है। 

क्या 2020 में android phone को root करना चाहिए 


क्या 2020 में android phone को root करना चाहिए

ज्यादातर लोग phone को root उसकी performance बढ़ाने के लिए करते है और आज से 3-4 साल पहले लोग अपने फोन को रुट कर देते थे क्योंकि पहले के फोन में आपको ज्यादा अच्छे hardware नहीं मिलते थे जिससे पहले के फोन बहुत ज्यादा hang करते थे और अच्छे specification वाले phone बहुत ज्यादा महंगे आते थे लेकिन आज 2020 में आपको बहुत ही कम कीमत में कमाल के फोन मिल जाते हैं जिनमे बहुत ही अच्छा processor लगा होता है इसीलिए आज के टाइम आपको phone root करने की बिलकुल भी जरुरत नहीं है क्योंकि आज के phone में वैसे भी कोई लैग देखने को नहीं मिलता लेकिन अगर आप कुछ ऐसा करना चाहते हैं अपने phone में जो बिना root के नहीं हो सकता जैसे की कुछ root वाली application को चलाना, तो फिर आप अपने android phone को root कर सकते हैं। 


Post a Comment

0 Comments